»
»
»
जोतिषी जी बतलवलन

जोतिषी जी बतलवलन

जोतिषी जी बतलवलन हा कि तोहरा मोबाइल पर अबहीं कंजूसी के महादशा चलत बा. जल्दी से एगो एसएमएस भेजि के ओकर शान्ति करावऽ ना त तहार मोबाइल चोरी हो जाए के पूरा अनेसा बा!...




More Bhojpuri SMS

हँसेलऽ हँसावे खातिर

हँसेलऽ हँसावे खातिर,
रोवेलऽ सतावे खातिर,
एक बेर रुस के त देखऽ,
मर जाइब हम तोहके मनावे खातिर!

रात कब हो गइल

रात कब हो गइल, खुशी कब खो गइल, आँख कब रो गइल?
तोहरा वियोग में अस डूबल रहीं कि कुछ पता ना चलल.

तन के, मन के

तन के, मन के, घर आंगन के कीचड़ पाँक हटा दीं.
प्रेम प्रीत के रंग अबीर हँस के खूब लगा दीं.

Show All Bhojpuri SMS