»
Shayari

Shayari

Shayari: When we think to express our emotions, love & affection and care ofcourse, we think about Shayari so this is for sure that Sher O Shayari is somewhere connected to our heart and our deep emotions. Shayari can say everything in its own beautiful way. Expression of love which is generally tough for all of us but Shayari makes it so simple, fill your emotions into it and guess what your love accepts you whole heartedly. Not only the expression but pain of a heart break can be beautifully moulded into words in shayari. There are many languages to express yourself and show your feelings but the most effective and powerful way is of course the world of Shayaris. Shayari give us inner strength to express our feelings and it gives us words to also. You are at the right place now, because you will be getting Shayari on every possible category like Hindi Shayari, Love Shayari, Funny Shayari, Romantic Shayari, Sad Shayari, Punjabi Shayari, Dosti Shayari, Sharab Shayari, Flirting Shayari, Birthday Shayari, Bollywood Shayari etc.

Romantic Shayari
Bahana Nahi Aata - Romantic Shayari

Dil ka haal batana nahi aata
Kisi ko aise tadpaana nahi aata
Sun-na chaahte hain aapki awaaz
Magar baat karne ka bahana nahi aata

Romantic Shayari
Kisi Na Kisi Pe - Romantic Shayari

Kisi na kisi pe kisi ko aitbar ho jaata hai
Ajnabi koyi shakha yaar ho jaata hai
Khoobiyon se nahi hoti mohabbat sadaa
Kamiyon se bhi aksar pyaar pyar ho jaata hai

Hindi Shayari
Kyun Yaad Karega Koi - Hindi Shayari

Kyun yaad karega koi mujhe bewajah
Aye bhagwan log to bewajah tujhe bhi yaad nahi karte



loading...
Hindi Shayari
Insaniyat - Hindi Shayari

Insaniyat dil mein hoti hai, haisiyat mein nahi
Uparwala karm dekhta hai vaseeyat nahi...

Hindi Shayari
Ek Kavita Maa Ke Liye - Hindi Shayari

जब आंख खुली तो अम्‍मा की
गोदी का एक सहारा था
उसका नन्‍हा सा आंचल मुझको
भूमण्‍डल से प्‍यारा था

उसके चेहरे की झलक देख
चेहरा फूलों सा खिलता था
उसके स्‍तन की एक बूंद से
मुझको जीवन मिलता था

हाथों से बालों को नोंचा
पैरों से खूब प्रहार किया
फिर भी उस मां ने पुचकारा
हमको जी भर के प्‍यार किया

मैं उसका राजा बेटा था
वो आंख का तारा कहती थी
मैं बनूं बुढापे में उसका
बस एक सहारा कहती थी

उंगली को पकड. चलाया था
पढने विद्यालय भेजा था
मेरी नादानी को भी निज
अन्‍तर में सदा सहेजा था

मेरे सारे प्रश्‍नों का वो
फौरन जवाब बन जाती थी
मेरी राहों के कांटे चुन
वो खुद गुलाब बन जाती थी

मैं बडा हुआ तो कॉलेज से
इक रोग प्‍यार का ले आया
जिस दिल में मां की मूरत थी
वो रामकली को दे आया

शादी की पति से बाप बना
अपने रिश्‍तों में झूल गया
अब करवाचौथ मनाता हूं
मां की ममता को भूल गया

हम भूल गये उसकी ममता
मेरे जीवन की थाती थी
हम भूल गये अपना जीवन
वो अमृत वाली छाती थी

हम भूल गये वो खुद भूखी
रह करके हमें खिलाती थी
हमको सूखा बिस्‍तर देकर
खुद गीले में सो जाती थी

हम भूल गये उसने ही
होठों को भाषा सिखलायी थी
मेरी नीदों के लिए रात भर
उसने लोरी गायी थी

हम भूल गये हर गलती पर
उसने डांटा समझाया था
बच जाउं बुरी नजर से
काला टीका सदा लगाया था

हम बडे हुए तो ममता वाले
सारे बन्‍धन तोड. आए
बंगले में कुत्‍ते पाल लिए
मां को वृद्धाश्रम छोड आए

उसके सपनों का महल गिरा कर
कंकर-कंकर बीन लिए
खुदग़र्जी में उसके सुहाग के
आभूषण तक छीन लिए

हम मां को घर के बंटवारे की
अभिलाषा तक ले आए
उसको पावन मंदिर से
गाली की भाषा तक ले आए

मां की ममता को देख मौत भी
आगे से हट जाती है
गर मां अपमानित होती
धरती की छाती फट जाती है

घर को पूरा जीवन देकर
बेचारी मां क्‍या पाती है
रूखा सूखा खा लेती है
पानी पीकर सो जाती है

जो मां जैसी देवी घर के
मंदिर में नहीं रख सकते हैं
वो लाखों पुण्‍य भले कर लें
इंसान नहीं बन सकते हैं

मां जिसको भी जल दे दे
वो पौधा संदल बन जाता है
मां के चरणों को छूकर पानी
गंगाजल बन जाता है

मां के आंचल ने युगों-युगों से
भगवानों को पाला है
मां के चरणों में जन्‍नत है
गिरिजाघर और शिवाला है

हिमगिरि जैसी उंचाई है
सागर जैसी गहराई है
दुनियां में जितनी खुशबू है
मां के आंचल से आई है

मां कबिरा की साखी जैसी
मां तुलसी की चौपाई है
मीराबाई की पदावली
खुसरो की अमर रूबाई है

मां आंगन की तुलसी जैसी
पावन बरगद की छाया है
मां वेद ऋचाओं की गरिमा
मां महाकाव्‍य की काया है

मां मानसरोवर ममता का
मां गोमुख की उंचाई है
मां परिवारों का संगम है
मां रिश्‍तों की गहराई है

मां हरी दूब है धरती की
मां केसर वाली क्‍यारी है
मां की उपमा केवल मां है
मां हर घर की फुलवारी है

सातों सुर नर्तन करते जब
कोई मां लोरी गाती है
मां जिस रोटी को छू लेती है
वो प्रसाद बन जाती है

मां हंसती है तो धरती का
ज़र्रा-ज़र्रा मुस्‍काता है
देखो तो दूर क्षितिज अंबर
धरती को शीश झुकाता है

माना मेरे घर की दीवारों में
चन्‍दा सी मूरत है
पर मेरे मन के मंदिर में
बस केवल मां की मूरत है

मां सरस्‍वती लक्ष्‍मी दुर्गा
अनुसूया मरियम सीता है
मां पावनता में रामचरित
मानस है भगवत गीता है

अम्‍मा तेरी हर बात मुझे
वरदान से बढकर लगती है
हे मां तेरी सूरत मुझको
भगवान से बढकर लगती है

सारे तीरथ के पुण्‍य जहां
मैं उन चरणों में लेटा हूं
जिनके कोई सन्‍तान नहीं
मैं उन मांओं का बेटा हूं

हर घर में मां की पूजा हो
ऐसा संकल्‍प उठाता हूं
मैं दुनियां की हर मां के
चरणों में ये शीश झुकाता हूं...!!

Funny Shayari
Gulaab Ki Khshbu - Funny Shayari

Aye gulaab apni khushbu ko mere doston par nyochhawar kar de..
Yeh sardi ke mausam mein aksar nahaya nahi karte.

Sad Shayari
Kaatil Nahi Milte - Sad Shayari

Jab jaan pyari thi tab dushman hazaron the,
Ab marne ka shauk hai to kaatil nahi milte.

Sad Shayari
Ek Silsile Ki Ummeed - Sad Shayari

Ek silsile ki ummeed thi unse
Wohi faasle badhaate gaye
Hum to paas aane ki koshish mein the
Na jaane kyun woh humse dooriyan badhaate gaye.



1 2 3 4 5 6 7 8 9 .  .  .  230 Next Last