Best Wishes Jokes SMS Jokes Funny Pictures Shayari Interesting Facts

Hindi Shayari




Hindi Shayari

Hindi Shayari of this site is a beautiful concept to share the thought about Shayari. So don't waste your cute thoughts and hindi shayari but share them with us so that world can see your thinking and truly in your way. We provide a platform where you can share your shayari with world and we encourage all types of hindi poetry like Hindi SMS Shayari, Original Hindi Shayari. So, what are you waiting for, Just start posting your Hindi Shayari. If you like any Hindi Shayari you can send it to your friends. Also don't forget to rate these Hindi Shayari.


Latest Hindi Shayari

Sab Bik Jata Hai Sab Bik Jata Hai
कोई टोपी तो कोई अपनी पगड़ी बेच देता है,
मिले अगर भाव अच्छा, जज भी कुर्सी बेच देता है..!

तवायफ फिर भी अच्छी के वो सीमित है कोठे तक..
पुलिस वाला तो चौराहे पर वर्दी बेच देता है ..!

जला दी जाती है ससुराल में अक्सर वही बेटी,
कि जिस बेटी की खातिर बाप किडनी बेच देता है ..!

कोई मासूम लड़की प्यार में कुर्बान है जिस पर,
बनाकर वीडियो उसका वो प्रेमी बेच देता है ..!

ये कलयुग है कोई भी चीज़ नामुमकिन नहीं इसमें..
कली, फल-फूल, पेड़ पौधे सब माली बेच देता है ..!

किसी ने मुहब्बत में "दिल हारा है" तो क्यूँ हैरत है लोगों को?
युद्धिष्ठिर तो जुए में अपनी पत्नी बेच देता है ...!!!
Facebook Comment    Facebook Share
अरमान बहुत हैं अरमान बहुत हैं
खुशियां कम और अरमान बहुत हैं,
जिसे भी देखिए यहां हैरान बहुत हैं,,

करीब से देखा तो है रेत का घर,
दूर से मगर उनकी शान बहुत हैं,,

कहते हैं सच का कोई सानी नहीं,
आज तो झूठ की आन-बान बहुत हैं,,

मुश्किल से मिलता है शहर में आदमी,
यूं तो कहने को इन्सान बहुत हैं,,

तुम शौक से चलो राहें-वफा लेकिन,
जरा संभल के चलना तूफान बहुत हैं,,

वक्त पे न पहचाने कोई ये अलग बात,
वैसे तो शहर में अपनी पहचान बहुत हैं।।।
Facebook Comment    Facebook Share
Woh Nadaan Bachpan Woh Nadaan Bachpan
Kagaz ki kashti thi nadi ka kinara tha
Khelne ki masti thi dil yeh awara tha
Kahan aa gaye is samajhdaari ki daldal mein
Woh nadaan bachpan bhi kitna pyara tha!!
Facebook Comment    Facebook Share
एक गरीब की बेटी एक गरीब की बेटी
रोज़ मरती है रोज़ जीती है।
हज़ारो जाम दुख के पीती है।
ख़ुदी मे ख़ुद सिमटती जाती है.....एक गरीब की बेटी।
.
.घर भी रोता है दर भी रोता है।
ज़मीनो आसमान रोता है।
जब कभी मुस्कुराके चलती है........एक गरीब की बेटी।।
.
जब से पैदा हुई है रोती है।
भूख मिटती नही ग़म खाती है।
दुख अपने नही बताती है........एक गरीब की बेटी।।
.
.देखती डोलयाँ उठती हुई झरोखो से।
कब आओगे तुम कहती है ये कहारो से।
चुपके चुपके से अशक बहाती है.....एक गरीब की बेटी।
.
फटे लिबास को सीकर के तन ढकती है।
ना तो जीती हे और ना मरती है।
ना जाने किस लिए संवरती है .......एक गरीब की बेटी।
.
तरसती रहती है वो एक लाल जोडे को।
कोई तो आए उस के लिए बियाहने को।
इसी उम्मीद मे टूटती बिखरती है.......एक गरीब की बेटी।
.
लेटती हाथो का तकया करके।
सो गयी चाँद से बतया करके।
सुबह होती नही दुख सहती है.....एक गरीब की बेटी।
.
हज़ारो बार रोन्दा हे हवस ने।
हजारो ठेस पहुँची है बरस मे।
कैसे कह दें के अब कुऑरी है।.......एक गरीब की बेटी।
.
ऐसा जीना भी कैसा जीना है।
पल पल के जिसमे मरना है।
मौत आजा तुझे बुलाती है.... एक गरीब की बेटी।
.
बहाने ढूंढती है जीने के।
सहारे ढंढती है मरने के।
देखो देखो के ऐसे जीती है......एक गरीब की बेटी।
.
फाँसी खाए के अब ज़हर खाए।
कोई भी देख ले तो मर जाए।
अपने ज़ख्मो को जब दिखाती है.......एक गरीब की बेटी।
.
जिसको मिलते रहे गौहर-ए-ग़म।
ज़ख्म ऐसे मिले हरे हर दम।
दुखो से चूर होके मरती है......एक गरीब की बेटी।
Facebook Comment    Facebook Share
Betiyaan Betiyaan
एक औरत गर्भ से थी पति को जब पता लगा की कोख में बेटी हैं तो वो उसका गर्भपात करवाना चाहते हैं दुःखी होकर पत्नी अपने पति से क्या कहती हैं :-

सुनो,
ना मारो इस नन्ही कलि को,
वो खूब सारा प्यार हम पर लुटायेगी,
जितने भी टूटे हैं सपने,
फिर से वो सब सजाएगी..

सुनो,
ना मारो इस नन्ही कलि को,
जब जब घर आओगे
तुम्हे खूब हंसाएगी,
तुम प्यार ना करना बेशक उसको,
वो अपना प्यार लुटाएगी..

सुनो
ना मारो इस नन्ही कलि को,
हर काम की चिंता
एक पल में भगाएगी,
किस्मत को दोष ना दो,
वो अपना घर आंगन महकाएगी..

ये सब सुन पति
अपनी पत्नी को कहता हैं :-

सुनो
में भी नही चाहता मारना
इसनन्ही कलि को,
तुम क्या जानो,
प्यार नहीं हैं क्या मुझको अपनी परी से,
पर डरता हूँ समाज में हो रही रोज रोज की दरिंदगी से..

क्या फिर खुद वो इन सबसे अपनी लाज बचा पाएगी,
क्यूँ ना मारू में इस कलि को,
वो बहार नोची जाएगी..
में प्यार इसे खूब दूंगा,
पर बहार किस किस से बचाऊंगा,

जब उठेगी हर तरफ से
नजरें, तो रोक खुद को ना पाउँगा..
क्या तू अपनी नन्ही परी को,
इस दौर में लाना चाहोगी,

जब तड़फेगी वो नजरो के आगे, क्या वो सब सह पाओगी,
क्यों ना मारू में अपनी नन्ही परी को, क्या बीती होगी उनपे,
जिन्हें मिला हैं ऐसा नजराना,
क्या तू भी अपनी परी को ऐसी मौत दिलाना चाहोगी..

ये सुनकर गर्भ से आवाज आती है.
सुनो माँ पापा-
मैं आपकी बेटी हूँ मेरी भी सुनो :-

पापा सुनो ना,
साथ देना आप मेरा,
मजबूत बनाना मेरे हौसले को,
घर लक्ष्मी है आपकी बेटी,
वक्त पड़ने पर मैं काली भी बन जाऊँगी

पापा सुनो,
ना मारो अपनी नन्ही कलि को, तुम उड़ान देना मेरे हर वजूद को,
में भी कल्पना चावला की तरह, ऊँची उड़ान भर जाऊँगी..

पापा सुनो,
ना मारो अपनी नन्ही कलि को, आप बन जाना मेरी छत्र छाया,
में झाँसी की रानी की तरह खुद की गैरो से लाज बचाऊँगी...

पति (पिता) ये सुन कर
मौन हो गया और उसने अपने फैसले पर शर्मिंदगी महसूस करने लगा और कहता हैं अपनी बेटी से :-

मैं अब कैसे तुझसे नजरे मिलाऊंगा,
चल पड़ा था तेरा गला दबाने,
अब कैसे खुद को तेरेे सामने लाऊंगा,
मुझे माफ़ करना ऐ मेरी बेटी, तुझे इस दुनियां में
सम्मान से लाऊंगा..

वहशी हैं ये दुनिया तो क्या हुआ,
तुझे मैं दुनिया की सबसे बहादुर बिटिया बनाऊंगा.

मेरी इस गलती की मुझे है शर्म,
घर घर जा के सबका भ्रम मिटाऊंगा
बेटियां बोझ नहीं होती..
अब सारे समाज में अलख जगाऊंगा!!!
Facebook Comment    Facebook Share
भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार
भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार कहीं और चलें;
आ मेरे दिल मेरे ग़म-ख़्वार कहीं और चलें;

कोई खिड़की नहीं खुलती किसी बाग़ीचे में;
साँस लेना भी है दुश्वार कहीं और चलें;

तू भी मग़मूम है मैं भी हूँ बहुत अफ़्सुर्दा;
दोनों इस दुख से हैं दो-चार कहीं और चलें;

ढूँढते हैं कोई सर-सब्ज़ कुशादा सी फ़ज़ा;
वक़्त की धुंध के उस पार कहीं और चलें;

ये जो फूलों से भरा शहर हुआ करता था;
उस के मंज़र हैं दिल-आज़ार कहीं और चलें;

ऐसे हँगामा-ए-महशर में तो दम घुटता है;
बातें कुछ करनी हैं इस बार कहीं और चलें।
Facebook Comment    Facebook Share

        1     2     3     4     5     6     7     8     9       .  .  . 23     Next     Last
SHAYARI CATEGORIES
Shayari Home
Barish Shayari
Birthday Shayari
Bollywood Shayari
Dosti Shayari
Flirting Shayari
Funny Shayari
Hindi Shayari
Punjabi Shayari
Romantic Shayari
Sad Shayari
Sharab Shayari

SUBMIT SHAYARI



SUBSCRIBE SHAYARI





Contact Us   |   Privacy Policy