»
»
Hindi Shayari

Hindi Shayari

Hindi Shayari of this site is a beautiful concept to share the thought about Shayari. So don't waste your cute thoughts and hindi shayari but share them with us so that world can see your thinking and truly in your way. We provide a platform where you can share your shayari with world and we encourage all types of hindi poetry like Hindi SMS Shayari, Original Hindi Shayari. So, what are you waiting for, Just start posting your Hindi Shayari. If you like any Hindi Shayari you can send it to your friends. Also don't forget to rate these Hindi Shayari.

Kyun Yaad Karega Koi
Kyun Yaad Karega Koi

Kyun yaad karega koi mujhe bewajah
Aye bhagwan log to bewajah tujhe bhi yaad nahi karte

Insaniyat
Insaniyat

Insaniyat dil mein hoti hai, haisiyat mein nahi
Uparwala karm dekhta hai vaseeyat nahi...

Ek Kavita Maa Ke Liye
Ek Kavita Maa Ke Liye

जब आंख खुली तो अम्‍मा की
गोदी का एक सहारा था
उसका नन्‍हा सा आंचल मुझको
भूमण्‍डल से प्‍यारा था

उसके चेहरे की झलक देख
चेहरा फूलों सा खिलता था
उसके स्‍तन की एक बूंद से
मुझको जीवन मिलता था

हाथों से बालों को नोंचा
पैरों से खूब प्रहार किया
फिर भी उस मां ने पुचकारा
हमको जी भर के प्‍यार किया

मैं उसका राजा बेटा था
वो आंख का तारा कहती थी
मैं बनूं बुढापे में उसका
बस एक सहारा कहती थी

उंगली को पकड. चलाया था
पढने विद्यालय भेजा था
मेरी नादानी को भी निज
अन्‍तर में सदा सहेजा था

मेरे सारे प्रश्‍नों का वो
फौरन जवाब बन जाती थी
मेरी राहों के कांटे चुन
वो खुद गुलाब बन जाती थी

मैं बडा हुआ तो कॉलेज से
इक रोग प्‍यार का ले आया
जिस दिल में मां की मूरत थी
वो रामकली को दे आया

शादी की पति से बाप बना
अपने रिश्‍तों में झूल गया
अब करवाचौथ मनाता हूं
मां की ममता को भूल गया

हम भूल गये उसकी ममता
मेरे जीवन की थाती थी
हम भूल गये अपना जीवन
वो अमृत वाली छाती थी

हम भूल गये वो खुद भूखी
रह करके हमें खिलाती थी
हमको सूखा बिस्‍तर देकर
खुद गीले में सो जाती थी

हम भूल गये उसने ही
होठों को भाषा सिखलायी थी
मेरी नीदों के लिए रात भर
उसने लोरी गायी थी

हम भूल गये हर गलती पर
उसने डांटा समझाया था
बच जाउं बुरी नजर से
काला टीका सदा लगाया था

हम बडे हुए तो ममता वाले
सारे बन्‍धन तोड. आए
बंगले में कुत्‍ते पाल लिए
मां को वृद्धाश्रम छोड आए

उसके सपनों का महल गिरा कर
कंकर-कंकर बीन लिए
खुदग़र्जी में उसके सुहाग के
आभूषण तक छीन लिए

हम मां को घर के बंटवारे की
अभिलाषा तक ले आए
उसको पावन मंदिर से
गाली की भाषा तक ले आए

मां की ममता को देख मौत भी
आगे से हट जाती है
गर मां अपमानित होती
धरती की छाती फट जाती है

घर को पूरा जीवन देकर
बेचारी मां क्‍या पाती है
रूखा सूखा खा लेती है
पानी पीकर सो जाती है

जो मां जैसी देवी घर के
मंदिर में नहीं रख सकते हैं
वो लाखों पुण्‍य भले कर लें
इंसान नहीं बन सकते हैं

मां जिसको भी जल दे दे
वो पौधा संदल बन जाता है
मां के चरणों को छूकर पानी
गंगाजल बन जाता है

मां के आंचल ने युगों-युगों से
भगवानों को पाला है
मां के चरणों में जन्‍नत है
गिरिजाघर और शिवाला है

हिमगिरि जैसी उंचाई है
सागर जैसी गहराई है
दुनियां में जितनी खुशबू है
मां के आंचल से आई है

मां कबिरा की साखी जैसी
मां तुलसी की चौपाई है
मीराबाई की पदावली
खुसरो की अमर रूबाई है

मां आंगन की तुलसी जैसी
पावन बरगद की छाया है
मां वेद ऋचाओं की गरिमा
मां महाकाव्‍य की काया है

मां मानसरोवर ममता का
मां गोमुख की उंचाई है
मां परिवारों का संगम है
मां रिश्‍तों की गहराई है

मां हरी दूब है धरती की
मां केसर वाली क्‍यारी है
मां की उपमा केवल मां है
मां हर घर की फुलवारी है

सातों सुर नर्तन करते जब
कोई मां लोरी गाती है
मां जिस रोटी को छू लेती है
वो प्रसाद बन जाती है

मां हंसती है तो धरती का
ज़र्रा-ज़र्रा मुस्‍काता है
देखो तो दूर क्षितिज अंबर
धरती को शीश झुकाता है

माना मेरे घर की दीवारों में
चन्‍दा सी मूरत है
पर मेरे मन के मंदिर में
बस केवल मां की मूरत है

मां सरस्‍वती लक्ष्‍मी दुर्गा
अनुसूया मरियम सीता है
मां पावनता में रामचरित
मानस है भगवत गीता है

अम्‍मा तेरी हर बात मुझे
वरदान से बढकर लगती है
हे मां तेरी सूरत मुझको
भगवान से बढकर लगती है

सारे तीरथ के पुण्‍य जहां
मैं उन चरणों में लेटा हूं
जिनके कोई सन्‍तान नहीं
मैं उन मांओं का बेटा हूं

हर घर में मां की पूजा हो
ऐसा संकल्‍प उठाता हूं
मैं दुनियां की हर मां के
चरणों में ये शीश झुकाता हूं...!!

loading...
Jo Muskura Raha Hai
Jo Muskura Raha Hai

Jo muskura raha hai, use dard ne paala hoga
Jo chal raha hai uske paanv mein zaroor chhala hoga
Bina sangharsh ke chamak nahi milti
Jo jal raha hai til-til, ussi diye mein ujala hoga

Woh Kabhi Khafa Nahi Hoti
Woh Kabhi Khafa Nahi Hoti

Woh is tarah mere gunaho ko dho deti hai
Bohot ghusse main ho to ro deti hai
Labon pe uske kabhi bad-dua nahi hoti hai
Bas ek 'Maa' hai jo mujhse kabhi khafa nahi hoti hai

Ganwa Baithe
Ganwa Baithe

Masjid to hui haasil humko, khaali imaan ganwa baithe.
Mandir ko bachaya lad-bhidkar, khaali Bhagwan ganwa baithe.
Dharti ko humne naap liya, hum chaand sitaaron tak pahunche,
Kul kaaynaat ko jeet liya, khaali insaan ganwa baithe.
Mazhab ke thekedaaron ne aaj phir hamein yun bhadkaya,
Ke kaazi aur pandit zinda the, hum apni jaan ganwa baithe.
Sarhad jab-jab bhi bant-ti hai, dono nuksan uthate hain,
Hum Pakistan ganwa baithe, woh Hindustan ganwa baithe.

Bura To Nahi
Bura To Nahi

Kisi ko dil se chahna bura to nahi,
Kisi ko dil me basana bura to nahi,
Gunah hoga zamane ki nazar me to kya hua,
Zamane wale bhi insaan hai khuda to nahi.

Woh Dhaga Hi Tha
Woh Dhaga Hi Tha

Woh dhaga hi tha jisne poora jeevan motiyon ko de diya,
Aur yeh moti apni tareef par itraate rahe umra bhar.



1 2 3 4 5 6 7 8 9   .  .  . 18 Next Last